लाड़ली बहनों की किस्त मिलने की तारीख में बदलाव, अब इस तारीख को मिलेगा पैसा , सीएम मोहन यादव की घोषणा

लाडली बहनों के लिए मिलने वाली राशि की तारीख शिवराज सरकार के द्वारा 10 तारीख निर्धारित की गई थी और प्रत्येक महीने की 10 तारीख को एमपी की महिलाओं के लिए ₹1000 से लेकर 1250 रुपए तक 10 तारीख को सरकार के द्वारा दिए जाते थे। विधानसभा चुनाव 2023 में शिवराज सिंह चौहान की जगह है पार्टी ने अब डॉक्टर मोहन यादव को मुख्यमंत्री बनाया है और यादव जी की सरकार बनते ही इस योजना को आगे बढ़ने का प्रयास किया गया है और इस राशि को ₹1500 तक करने का भी प्रयास किया गया है। आज के आर्टिकल में हम जानेंगे कि मोहन यादव जी के द्वारा क्या मिलने वाली राशि की तारीख को बदला जा सकता है या फिर 10 तारीख को ही सरकार के द्वारा लाडली बहनों को राशि ट्रांसफर की जाएगी।

हर महीने की 1 तारीख को मिलेगा लाडली बहनों को पैसा–

मध्य प्रदेश में चल रही लाडली बहना योजना का शुभारंभ 6 महीने पहले हो चुका था और इसकी कई बार राशि एमपी की महिलाओं को प्राप्त हो चुकी है । लाडली बहनों के लिए मोहन यादव जी की सरकार के द्वारा एक बड़ा ऐलान किया गया है कि इस योजना के तहत मिलने वाली राशि की तारीख को बदला जा सकता है लेकिन अभी यह कंफर्म नहीं हुआ है कि कौन सी तारीख रखी जाएगी । इस योजना के द्वारा मिलने वाली राशि की संभावना है कि 1 तारीख जो कि प्रत्येक महीने का प्रथम दिन होता है इस दिन राशि प्राप्त हो सकती है।

मोहन यादव जी का एमपी की जनता को एक बड़ा संदेश–

शिवराज सिंह चौहान की जगह है डॉक्टर मोहन यादव को विधानसभा चुनाव होने के बाद नया मुख्यमंत्री घोषित किया गया है और जैसे ही मोहन यादव को मुख्यमंत्री बनाया गया उसकी तुरंत बाद से एमपी की बहुत सारी जनता मुख्यमंत्री जी को पसंद नहीं कर रही थी और उनकी जगह शिवराज सिंह चौहान को ही फिर से मुख्यमंत्री बनने के लिए दावा ठोक रही थी । सोशल मीडिया पर इस तरह के जैसे ही वीडियो वायरल हुई और खबर के दौरान मोहन यादव जी को पता चला तो उन्होंने एमपी की जनता के लिए एक संदेश जारी किया कि शिवराज सरकार के द्वारा जो भी योजना चलाई जा रही हैं उनको बंद नहीं किया जाएगा क्योंकि ज्यादातर लोगों के बीच यही डर था कि शिवराज सरकार के द्वारा चलाई गई योजनाओं को अब बंद कर दिया जाएगा।

मोहन यादव बनेंगे एमपी के मसीहा–

डॉ मोहन यादव ने मुख्यमंत्री बनने के दौरान एमपी की जनता के लिए यह आश्वासन दिया है कि एमपी की जनता की सेवा निष्पक्ष रूप से करेंगे और उनके लिए विकास का हर अवसर प्रदान करेंगे । डॉ मोहन यादव मंत्रिमंडल में काफी एजुकेटेड और पुराने राजनेता हैं जिनका बैकग्राउंड काफी अच्छा है । अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से उन्होंने राजनीतिक की शुरुआत की थी और कई सालों बाद उनको अब मुख्यमंत्री का पद मिला है उनकी उम्र लगभग 58 साल है। 1982 में इन्होंने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से पहले पद हासिल किया था इसके बाद धीरे-धीरे राजनीति में आगे बढ़ते गए और अब वर्तमान में यह तीन बार उज्जैन दक्षिण से विधायक बन चुके हैं ।

योजना कब तक लोकसभा चुनाव तक ( राजनीतिक पंडित)
सीएम पद संभालते ही एक्शन उज्जैन से योजना प्रारंभ
मंत्रीमंडल में विस्तार जल्द
लाड़ली बहनों को पैसाहर महीने की 1 तारीख

लाडली बहना योजना कब तक चलेगी?

लाडली बहना योजना के बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता क्योंकि मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव पूरे होने के बाद शिवराज सिंह चौहान की जगह डॉक्टर मोहन यादव को मुख्यमंत्री बनाया गया है और डॉक्टर मोहन यादव ने एमपी की जनता के लिए यह आश्वासन दिया है की पुरानी योजनाओं को अभी बंद नहीं किया जाएगा उनको स्वत चालू रखा जाएगा जब तक लोकसभा चुनाव पूरे नहीं हो जाते । लोकसभा चुनाव पूरे होने के बाद इन योजनाओं के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता क्योंकि इन योजनाओं का क्रियान्वयन बदल सकता है ।