15000 करोड़ रुपए में होंगे चुनाव के वादे पूरे, सीएम मोहन यादव के लिए बहुत बड़ी चुनौती

मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव जी के लिए वर्तमान समय में बहुत बड़ी चुनौती सामने आकर खड़ी है क्योंकि पुराने किए गए वादों को पूरा करने के लिए लगभग 15000 करोड रुपए खर्च हो सकते हैं। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी के द्वारा चुनावी वादे करने के दौरान कई तरह की योजनाओं को शुरू किया गया जिसमें लाडली बहनों के लिए ₹1000 प्रति महीना दिए जाने का वादा किया गया था और इस योजना को ₹3000 तक ले जाने का निर्णय लिया गया था।

इसी तरह की योजनाओं को आगे बढ़ाने के लिए और वादों को पूरा करने के लिए लगभग सरकार के 15000 करोड रुपए खर्च हो सकते हैं । आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि वह कौन-कौन सी योजनाएं हैं जिनको पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी ने शुरू किया था और अब उनका पूरा नए मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव जी के द्वारा किया जाएगा।

डॉ मोहन यादव करेंगे शिवराज सरकार की चलाई गई योजनाओं को पूरा–

मध्य प्रदेश में चल रही योजनाओं के लिए सरकार के पास कोई बजट नहीं है इसीलिए सरकार ने एक निर्णय लिया था कि सभी योजनाओं को कुछ समय के लिए स्थगित किया जाता है जिसका कोई निश्चित समय नहीं होगा । इसके बाद मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी की एक प्रतिक्रिया आई जिसमें उन्होंने कहा कि अगर सरकार को इसके लिए कर्ज भी लेना पड़े तो ले सकती है मगर इस तरह की योजनाओं को बंद करके महिलाओं को आर्थिक रूप से नुकसान पहुंचाना गलत है ।

अगर एमपी की महिलाओं को इस योजना का लाभ मिलता है और वह आर्थिक रूप से मजबूत हो रही हैं तो उनको इस तरह की योजनाओं का लाभ मिलना आवश्यक है। मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव जी के द्वारा एमपी के हर परिवार के लिए बहुत ही बड़ी खुशखबरी है क्योंकि उन्होंने कहा है कि हर योजना को पूरा करने का जिम्मा अब मोहन यादव जी के द्वारा किया जाएगा।

मध्य प्रदेश में शुरू हुई नई योजनाएं–

मध्य प्रदेश में नए मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव जी के द्वारा नई योजनाओं का प्रारूप तैयार कर लिया गया है जिसे बहुत ही जल्द शुरू किया जा सकता है इसमें कई तरह की योजनाओं में महिलाओं के लिए लाभ दिया जाना सुनिश्चित किया गया है । आने वाले समय में नए मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव जी के द्वारा एमपी के युवाओं के लिए बहुत ही सुनहरे अवसर प्रदान किए जाएंगे जिसमें वह सरकारी नौकरी जैसे मौके का फायदा उठाएंगे और उनको कई तरह के रोजगार के अवसर भी प्रदान किए जाएंगे। एमपी के हर परिवार के लिए आर्थिक रूप से मजबूती प्रदान करना और कई तरह से लाभ पहुंचाना जिससे परिवार अपनी जिंदगी को बेहतर बना सके इसकी जिम्मेदारी स्वयं नई मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव जी के द्वारा ले ली गई है ।

चुनावी वादे में हो गया नई सरकार को घाटा –

विधानसभा चुनाव 2023 के पहले मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री के तौर पर शिवराज सिंह चौहान कार्य कर रहे थे लेकिन विधानसभा चुनाव कंप्लीट होने के बाद नया मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव जी को बनाया गया है । पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी के द्वारा विधानसभा चुनाव 2023 का कंप्लीट होने से पहले एमपी की जनता के लिए कई तरह की चुनावी बातें किए थे और जनता को लगाने के लिए कई तरह की लॉलीपॉप वाली योजनाओं को शुरू किया लेकिन अब उन योजनाओं को पूरा करने के लिए सरकार के पास बजट ही नहीं है । योजनाओं को पूरा करने के लिए बजट न होने के कारण नई सरकार के द्वारा 15000 करोड रुपए का कर्ज लिया जा सकता है जिसका असर मध्य प्रदेश की जनता पर भी पड़ेगा ।

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान योजनाओं को लेकर हुए सीरियस–

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी के द्वारा चुनाव के पहले जो भी वादे किए गए थे उनका पूरा करने का समय अब डॉक्टर मोहन यादव जी को मिला है क्योंकि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के पद पर शिवराज सिंह चौहान को हटा दिया गया है और नए मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव चुनकर आए हैं । डॉ मोहन यादव जी के द्वारा पुरानी योजनाओं को पूरा करने का प्रयास स्वयं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कर रहे हैं क्योंकि शिवराज सिंह चौहान का मानना है कि अगर जनता को हमने योजनाओं का लाभ दिया है तो उस तरह की योजनाओं को पूरा करना भी हमारी जिम्मेदारी है।