मुख्यमंत्री कन्यादान योजना 2024, योजना से 20 लाख लाभार्थियों को होगा फायदा

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की शुरुआत काफी वर्ष पहले हो चुकी थी और यह धीरे-धीरे पॉपुलर होती गई और जनता को काफी पसंद आई क्योंकि प्रदेश में गरीबी काफी समय से है और गरीबी के कारण कई लोग अपनी कन्याओं का विवाह है एक अच्छे घराने में नहीं कर पाए जिस वजह से उनको सरकार के द्वारा इस तरह की योजनाओं का लाभ दिया जाता है और आर्थिक रूप से सहयोग प्रदान किया जाता है । मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के द्वारा गरीब कन्याओं का विवाह संपन्न कराया जाता है जिसकी प्रक्रिया आगे आर्टिकल में बताई जाएगी।

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की शुरुआत–

2006 के समय मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी के द्वारा इस योजना की शुरुआत की गई और धीरे-धीरे इस योजना को शिवराज सिंह चौहान जी के द्वारा ही 2023 तक समय-समय पर आगे बढ़ाया गया और गरीब कन्याओं के विवाह का आयोजन किया गया ।

योजनाआर्थिक सहायता स्कीम 2024 – मध्य प्रदेश
प्रदान की जाने वाली सहायतालगभग 51000 रुपये प्रति गरीब परिवार
योजना के लाभार्थीगरीब परिवारों के सदस्य, बीपीएल कार्ड होने चाहिए
योजना का लक्ष्यआर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को समर्थन प्रदान करना
मुख्यमंत्री कन्यादान योजना 2024योजना से 20 लाख लाभार्थियों को होगा फायदा

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के लाभ–

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना का सबसे पहले लाभ यह होता है कि किसी गरीब परिवार को 51000 की आर्थिक सहायता सरकार के द्वारा प्रदान की जाती है जिससे उनका विवाह आसानी से संपन्न हो जाता है। आर्थिक तंगी के कारण कई बार आदिवासी समाज के लोग और अनुसूचित जनजाति अथवा अनुसूचित जाति के लोग जो गरीब फैमिली से आते हैं वह बहुत बड़ा खर्चा अफोर्ड नहीं कर पाते जिस वजह से उनके विवाह में कई प्रकार की समस्याएं उत्पन्न होती हैं । मध्य प्रदेश सरकार के द्वारा गरीब परिवारों के लिए इस तरह की एक अकेली मुख्यमंत्री कन्यादान योजना को ही नहीं बल्कि कई तरह की ऐसी योजनाओं को शुरू किया गया था कि उनकी हर तरह से मदद की जा सके ।

विवाह योजना में शामिल होने हेतु पात्रता–

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में शामिल होने के लिए सबसे पहली शर्त यह है कि परिवार को अथवा उम्मीदवार को मध्य प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए । इस योजना मे जिन लोगों की शादी को संपन्न होना है सरकारी आंकड़ों के अनुसार और सरकारी कानून के अनुसार उम्र को पूरा किया हुआ होना चाहिए अगर उम्र कम होगी तो इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा और विवाह संपन्न भी नहीं हो पाएगा ।

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट–

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में 2023 के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट में सबसे पहले आधार कार्ड और समग्र आईडी को प्राथमिकता दी गई है इसके अलावा आर्थिक सहायता प्राप्त करने के लिए बैंक पासबुक की भी आवश्यकता पड़ती है। कन्यादान विवाह योजना में शामिल होने वाली उम्मीदवारों की पासपोर्ट साइज फोटो को भी शामिल किया जाता है जिसे इस योजना के लिए रजिस्टर्ड किया जाता है ।

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना का उद्देश्य–

मुख्यमंत्री कन्यादान विवाह योजना का सबसे पहला उद्देश्य यह होता है कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति जैसे लोग जो गरीबों के कारण बहुत ही पिछड़े हुए होते हैं उनकी आर्थिक रूप से सहायता तो प्रदान करना ही है साथ ही उनकी खुशियों को किसी भी प्रकार से कम नहीं होने देना। सरकार के द्वारा मुख्यमंत्री कन्यादान विवाह योजना के माध्यम से जिन लोगों को आर्थिक रूप से मदद की जरूरत होती है उनके लिए यह योजना बहुत ही उपयुक्त है और सरकार के द्वारा इसका लाभ भी प्रदान किया जाता है ।